• For Ad Booking:
  • +91 9818373200, 9810522380
  •  
  • Email Us:
  • news@tbcgzb.com
  •  
  • Download e-paper
  •  
  •  

अजय देवगन की मैदान में दिखाई जाएगी उस कोच की कहानी, जिसने कैंसर से लड़ते हुए भारत को दिलाया गोल्ड

Posted on 2020-01-29

नई दिल्ली :  अजय देवगन ने एक नई फ़िल्म का पोस्टर जारी किया है। 27 नवंबर, 2020 को उनकी नई फ़िल्म 'मैदान' रिलीज़ होगी। यह फ़िल्म फुटबाल टीम के ऊपर आधारित है। इस फुटबाल टीम ने साल 1956 के समर ओलपिंक में सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था। वहीं, 1962 में हुए एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल भी जीता था। अब इस टीम की कहानी को फ़िल्माया जाएगा। 

'मैदान' नाम की इस फ़िल्म में अजय देवगन कोच सैय्यद अब्दुल रहीम का किरदार निभाएंगे। सैय्यद अब्दुल रहीम अब तक के भारत के सबसे सफ़ल फुटबॉल कोच को हैं। हम इस आर्टिकल में आपको इसी कोच के बारे में बता रहे हैं। आइए जानते हैं..

रहीम का जन्म 17 अगस्त, 1909 को हैदराबाद में हुआ था। वह पेशे टीचर थे। कहा जाता है कि उनमें लोगों को मोटिवेट करने की गज़ब की क्षमता थी। साल 1943 में वह हैदराबाद सिटी पुलिस की फुटबाल टीम के साथ बतौर कोच जुड़े। उनके जुड़ते ही टीम काफी बदलाव आ गया। उनके काम पर करीब 6-7 साल बाद इंडिया फुटबॉल फेडरेशन की नज़र पड़ी। इसके बाद वह 1950 में वह टीम इंडिया के कोच और मैनेजर बने। 

टीम इंडिया को पहनाए जूते

catchnews.com के मुताबिक, साल 1952 में भारतीय टीम  हेलसिंकी में ओलपिंक खेलने गई। इसमें वह बिना जूतों की ही मैदान में उतरी। टीम को भयानक हार का सामना करना पड़ा। रहीम ने तय किया कि अब उनकी टीम जूते पहनकर मैदान में उतरेगी। इसके बाद 1956 में ओलपिंक मेलबर्न में खेला गया। वहां टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर बड़ा उल्टफेर किया। टीम ने सेमीफाइनल तक का सफ़र तय किया। यह भारत के अब तक के फुटबॉल इतिहास का सबसे बड़ा अचीवमेंट है।

कैंसर से हुई मौत

11 जून, 1963 को कोच रहीम कैंसर से लड़ते हुए दुनिया छोड़ गए। हालांकि, कैंसर से लड़ते हुए ही, उन्होंने टीम को 1962 में एशियन गेम्स जकार्ता (इंडोनेशिया) में गोल्ड दिल

Tirupati Eye

  • इस शिवरात्रि इन 5 राशि वालों पर बरसेगी महादेव की कृपा, बनेंगे सब काम ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन महादेव की पूजा और अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और जीवन में सुख-समृद्ध


  • नजीर अकबरावादी जयंती: ठाठ पड़ा रह गया, बंजारा चला गया विश्वास नहीं होता योगेश जादौन। ताजगंज की मलको गली। पुरानी भारतीय बस्तियों की एक आम गली की ही तरह। कुछ दुकानें खुली हैं, कुछ रेहडिय़ां लगी ह


  • नड्डा का केजरीवाल पर हमला, बोले- सीएम बताएं देश विरोधी लोगों का समर्थन क्यों कर रहे हैं? नई दिल्ली, पीटीआइ। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भारत


  • मेरठ में बनेगा देश का पहला गैसीफिकेशन तकनीक से बिजली बनाने का संयंत्र, सांसों के दुश्मन को अब लगेगा ‘करंट’ मेरठ,। मेरठ भूड़बराल स्थित बिजली संयंत्र में आरडीएफ (कूड़े से छांटकर निकाले प्लास्


  • त्याग और बलिदान के मिसाल हैं गुरु गोबिंद सिंह जी, जानें उनके जीवन की 10 बातें और उपदेश सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह जी की जयंती आज देशभर में धूमधाम से मनाई जा रही है। गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म

संता और बंता दोनों भाई एक

संता और बंता दोनों भाई एक
ही क्लास में पढ़ते थे।

अध्यापिका: तुम