• For Ad Booking:
  • +91 9818373200, 9810522380
  •  
  • Email Us:
  • news@tbcgzb.com
  •  
  • Download e-paper
  •  
  •  

मसूढ़ों से ही दांत रहते है मजबूत

Posted on 2014-08-29

दांत हमारे शरीर का वह हिस्सा हैं जिनके बिना हम भोजन की कल्पना नहीं कर सकते हम सभी हमेशा यह चाहते हैं कि हमारे दांत स्वस्थ व मजबूत रहें। दांतों की देखभाल की जितनी जरूरत होती है उतनी ही जरूरत मसूढों की देखभाल की भी होती हैं। क्योंकि मसूड़े जितने मजबूत होते हैं दांत भी उतने ही मजबूत रहते हैं। दांत कितने भी स्वस्थ हों लेकिन यदि मसूडे़ रोग से ग्रसित हैं तो दांतों के खराब होने का खतरा हमेशा बना रहता है। प्रारंभ में मसूढों से सूजन होती है और फिर कुछ समय बाद दांतों का हिलना भी शुरू हो जाता है। यदि इस स्थित मिें दांतों की उचित देखभाल न की जाए तो दांत गिरने शुरू हो जाते हैं। यदि दांत न भी हिलने लगें तो भी कुछ परेशानी का सामना करना ही पड़ता है, जैसे, मुंह से बदबू आना, मसूढों से खून आना या मसूढों में दर्द होना आदि।
मसूढों में सूजन आना ही पायरिया को जन्म देता है। यह एक बहुत आम बीमारी है। यह दुनिया के हर भाग में होती है। यदि कोई अपने स्वास्थ्य के लिए जागरूक हो तो वह इस बीमारी से परेशान हुए बिना रह सकता है वरना 75 फीसदी लोग जीवन में कभी न कभी जिंजिंवाइटिस अर्थात मसूढों के सूजने से जरूर पीडि़त होते हैं। पायरिया का रोग अक्सर उसी स्थित मिें होता है जब कोई अपने दांतों व मसूढों की साफ सफाई की ओर ध्यान नहीं देता। इससे दांतों और मसूढों के बीच भोजन के टुकड़े, लार और बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं। इसे दंत चिकित्सक प्लाक कहते हैं। प्लाक ब्रश करने के 4 से 12 घंटों के भीतर बनना शुरू होता है और अगर इसको रोकने के लिए जरूरी उपाय न किये जाएं तो यह सख्त होकर दांतों पर मैल की परत के रूप में जमा हो जाता है जिससे मसूढों में सूजन आती है।
मसूढों के सूजने की वजह से उनका रंग सुर्ख हो जाता है। उनमें जलन भी होने लगती है। कभी−कभी उनमें से खून भी निकलता है। इस स्थित में भी उ