• For Ad Booking:
  • +91 9818373200, 9810522380
  •  
  • Email Us:
  • news@tbcgzb.com
  •  
  • Download e-paper
  •  
  •  

प्रवासी भारतीय केंद्र का बदलेगा नाम, सुषमा स्वराज भवन के नाम से जाना जाएगा

Posted on 2020-02-13

नई दिल्ली:  एएनआई। 14 फरवरी को पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का जन्मदिन है। इस मौके पर विदेश मंत्रालय ने प्रवासी भारतीय केंद्र का नाम बदलकर सुषमा स्वराज भवन और विदेश सेवा संस्थान का नाम बदलकर सुषमा स्वराज इंस्टिट्यूट ऑफ फॉरेन सर्विस करने का फैसला किया है।

भारत की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अमूल्य योगदान के लिए विदेश मंत्रालय ने 14 फरवरी को उनकी जयंती की पूर्व संध्या पर इसकी घोषणा की है। इससे पहले पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को गणतंत्र दिवस के मौके पर पद्म विभूषण सम्मान से नवाजा गया था।

सुषमा स्‍वराज का छह अगस्‍त 2019 को 67 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। रात को घर पर उन्‍हें दिल का दौरा पड़ा फिर उन्‍हें दिल्ली के ही एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उन्‍होंने इस दुनिया का अलविदा कहा। 2018 में ही सुषमा स्‍वराज ने कहा था कि वह अब चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं
 

Tirupati Eye

  • इस शिवरात्रि इन 5 राशि वालों पर बरसेगी महादेव की कृपा, बनेंगे सब काम ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन महादेव की पूजा और अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और जीवन में सुख-समृद्ध


  • नजीर अकबरावादी जयंती: ठाठ पड़ा रह गया, बंजारा चला गया विश्वास नहीं होता योगेश जादौन। ताजगंज की मलको गली। पुरानी भारतीय बस्तियों की एक आम गली की ही तरह। कुछ दुकानें खुली हैं, कुछ रेहडिय़ां लगी ह


  • नड्डा का केजरीवाल पर हमला, बोले- सीएम बताएं देश विरोधी लोगों का समर्थन क्यों कर रहे हैं? नई दिल्ली, पीटीआइ। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर भारत


  • मेरठ में बनेगा देश का पहला गैसीफिकेशन तकनीक से बिजली बनाने का संयंत्र, सांसों के दुश्मन को अब लगेगा ‘करंट’ मेरठ,। मेरठ भूड़बराल स्थित बिजली संयंत्र में आरडीएफ (कूड़े से छांटकर निकाले प्लास्


  • त्याग और बलिदान के मिसाल हैं गुरु गोबिंद सिंह जी, जानें उनके जीवन की 10 बातें और उपदेश सिखों के 10वें गुरु गोबिंद सिंह जी की जयंती आज देशभर में धूमधाम से मनाई जा रही है। गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म

संता और बंता दोनों भाई एक

संता और बंता दोनों भाई एक
ही क्लास में पढ़ते थे।

अध्यापिका: तुम