• For Ad Booking:
  • +91 9818373200, 9810522380
  •  
  • Email Us:
  • news@tbcgzb.com
  •  
  • Download e-paper
  •  
  •  

बम्हेटा पीएचसी में 25 टीबी मरीजों को बांटा गया पोषाहार

Posted on 2021-02-10

गाजियाबाद: राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत बम्हेटा स्थित पीएचसी (प्राइमरी हेल्थ सेंटर) में बुधवार को टीबी रोग से ग्रसित 25 बच्चों को आरएचएएम गाजियाबाद व एमएमजी अस्पताल गाजियाबाद के सहयोग से पोषाहार का वितरण किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि असिस्टेंट गर्वनर 20-21 जोन-15 रोटेरियन महेंद्र सिंह बत्रा रहे। जिला क्षय रोग अधिकारी गाजियाबाद डाॅ.राकेश यादव व डिस्ट्रिक पीपीएम दीपाली गुप्ता ने बताया कि शासन की गाइड लाइन के अनुरूप हाॅरलेक्स, बिस्कुट, दलिया, खिचड़ी, फ्रूटस, चना, दाल आदि न्यूट्रिशियन के पैकेट टीबी रोगियों को दिये गये। उन्होंने कहा कि दो हफ्ते से ज्यादा खांसी होने पर डॉक्टर को दिखाएं। दवा का पूरा कोर्स लें। डॉक्टर से बिना पूछे दवा बंद न करे। मास्क पहनें या हर बार खांसने या छींकने से पहले मुंह को पेपर नैपकिन से कवर करें। मरीज हवादार और अच्छी रोशनी वाले कमरे में रहे। साथ ही एसी से परहेज करे। पौष्टिक खाना खाए, एक्सरसाइज व योग करे। बीड़ी, सिगरेट, हुक्का, तंबाकू, शराब आदि से परहेज करें। भीड़-भाड़ वाली और गंदी जगहों पर जाने से बचें। इस दौरान अतिथियों को पौधा देकर व शाॅल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।
रोटरी हेल्थ अवेयरनेस मिशन के फाउंडर एवं चेयर डाॅ.धीरज कुमार भार्गव ने बताया कि रोटरी क्लब ऑफ़ इंदिरापुरम गैलोर के प्रेसीडेंट इलेक्ट रोटेरियन प्रतीक भार्गव का दस फरवरी बुधवार को जन्मदिन भी है। आरआरके पाॅलीमर प्राइवेट लिमिटेड एमजी रोड गाजियाबाद के मनीष गुप्ता व रोटरी क्लब ऑफ़ इंदिरापुरम गैलोर के प्रेसीडेंट इलेक्ट रोटेरियन प्रतीक भार्गव के सौजन्य से पोषण वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया।
मुख्य अतिथि रो.महेंद्र सिंह बत्रा (असिस्टेंट गर्वनर 20-21, जोन-15) ने बताया कि मरीजों को अक्षय पोषण योजना के तहत हर माह 500 रूपये पोषण भत्ता भी मिलता है। यह राशि मरीज के खाते में सीधे भेजी जाती है। उन्होंने बताया दवा के साथ-साथ टीबी मरीज को पोषाहार की बहुत जरूरत होती है। इन बच्चों को अतिरिक्त पोषाहार उपलब्ध कराने के साथ ही इस बात का भी ध्यान रखा जा रहा है कि टीबी रोगी नियमित दवा लेते रहे।
आरआरके पाॅलीमर प्राइवेट लिमिटेड एमजी रोड गाजियाबाद के मनीष गुप्ता ने बताया कि आज आरएचएएम ने कुछ टीबी रोगी बच्चों के पोषाहार की जिम्मेदारी मुझे दी थी। उन्होंने कहा कि टीबी कोई आनुवांशिक रोग नहीं है। यह किसी को भी हो सकता है। जब कोई स्वस्थ व्यक्ति टीबी रोगी के पास जाता है और उसके खांसने, छींकने से जो जीवाणु हवा में फैल जाते हैं उसको स्वस्थ व्यक्ति सांस के द्वारा ग्रहण कर लेता है। इस रोग से बचने के लिए साफ-सफाई रखना और हाइजिन का ख्याल रखना बहुत जरूरी होता है।
रोटरी क्लब ऑफ़ इंदिरापुरम गैलोर के प्रेसीडेंट इलेक्ट रोटेरियन प्रतीक भार्गव ने बताया कि जिन लोगों को टीबी होती है, उन्हें लगातार बुखार रहता है। शुरुआत में लो-ग्रेड में बुखार रहता है लेकिन बाद संक्रमण ज्यादा फैलने पर बुखार तेज होता चला जाता है। टीबी के मरीज की बीमारी से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। जिसके कारण उसकी ताकत कम होने लगती है। वहीं, मरीज के कम काम करने पर अधिक थकावट होने लगती है। टीबी होने पर लगातार वनज भी घटता है। खानपान पर ध्यान देने के बाद भी वजन कम होता रहता है। वहीं, टीबी के मरीज की खाने को लेकर रुचि कम होने लगती है।
इस दौरान अपूर्व राज, संदीप मिगलानी, निरझर मल्होत्रा, विक्रम, मनीष गुप्ता, राजेश मिश्रा, दयानंद शर्मा, अंशुल जैन, दीपाली गुप्ता व राकेश आदि मौजूद थे।

Tirupati Eye

  • World Cancer Day 4th February 2021


  • Wishing you 72nd Republic Day


  • Netaji Subhas Chandra Bose Jayanti 23-Jan-2021


  • Happy makar sankranti


  • HAPPY LOHRI & MAKARSANKRANTI

Thoda hans lo

वर्मा जी एक कड़क ऑफिसर हैं!
स्टाफ अगर लेट आए तो उनको बिलकुल बर्दाश्त नहीं