• For Ad Booking:
  • +91 9818373200, 9810522380
  •  
  • Email Us:
  • news@tbcgzb.com
  •  
  • Download e-paper
  •  
  •  

कपिल देव बोले- आराम चाहते थे तो अब आराम करें क्रिकेटर, क्योंकि जान है तो जहान है

Posted on 2020-03-27

नई दिल्ली, जेएनएन। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। दुनिया भर के खेल ठप हो गए हैं। टोक्यो ओलंपिक के बाद अब आइपीएल पर नजर है कि यह स्थगित होगा या नहीं। लगातार क्रिकेट खेलने के बाद अब क्रिकेटर भी आराम कर रहे हैं। हालांकि इन विपरीत परिस्थितियों में भी 1983 विश्व कप विजेता भारतीय टीम के कप्तान कप्तान कपिल देव सकारात्मक हैं। वह इन कठिन पलों का भी लुत्फ उठा रहे हैं और बाकी लोगों के लिए संजीदा हैं। घर में परिवार के साथ समय बिता रहे लेजेंड कपिल देव से अभिषेक त्रिपाठी ने विशेष बातचीत की। पेश हैं मुख्य अंश-

-वर्तमान में जो हालात हैं उसमें आप देशवासियों को क्या संदेश देना चाहेंगे?
एक ही संदेश हैं। जान है तो जहान है। उसके बिना कुछ भी नहीं है। सभी लोग घर में रहें और अपना ख्याल रखें क्योंकि अगर आपने अपना ख्याल रख लिया तो आपके आस-पास के लोग भी बच जाएंगे। इस कठिन दौर से लोग और ज्यादा जिम्मेदार बनेंगे। लोग अब स्वच्छता को सबक के तौर पर लेंगे। उम्मीद है कि वे अपने हाथों को धोना सीखेंगे, सार्वजनिक जगहों पर थूकना और पेशाब नहीं करना सीखेंगे। हमें अपने आसपास के वातावरण को साफ रखना होगा।
 

खाली समय आप कैसे बिता रहे हैं? आप दफ्तर जाते थे और भी बहुत काम आपको रहते थे। अब कैसे समय काट रहे हैं?

-पत्नी के साथ बैठकर समय निकाल रहे हैं। इतने सालों में अब मौका मिला है तो क्यों ना समय का लुत्फ लिया जाए। पहले समय ही नहीं मिल पाता था। आप अब यह शिकायत नहीं कर सकते हैं कि परिवार के साथ रहने का वक्त नहीं है। मैं हर चीज को सकारात्मक तौर पर देखता हूं।

-सारा क्रिकेट रुका हुआ है। ऐसे समय क्रिकेटरों को क्या करना चाहिए?
क्रिकेटर कहते थे ना कि बहुत क्रिकेट चल रहा है, आराम नहीं मिल पा रहा है। तो भगवान ने दे दिया है आराम, अब आराम करो। आपने आपको सही करो, जिम करो, एक्सरसाइज करो। इसके लिए तो कोई रोकटोक नहीं है। अगर चोट है तो आप उसको सही कर सकते हो। आप सोचते क्या हो? सकारात्मक हो या नहीं। अगर हो तो आपको करने के लिए बहुत चीजें मिल जाएंगी, लेकिन अगर नकारात्मक हो तो रोते रहोगे। यह नहीं होगा वह नहीं होगा, तो मैं तो सकारात्मक हूं, कि यही समय है जो सोचा नहीं था, अगर मिला है तो लुत्फ लो।
 

वर्तमान समय में विश्व क्रिकेट को कैसे देखते हो?

-जिंदगी से बड़ा नहीं है विश्व क्रिकेट। पहले खुद को संभालो, दुनिया संभालो। हालात है उसके ऊपर ध्यान लगाओ। फिल्म, क्रिकेट, पार्टी, लोगों से मिलना-जुलना सब बाद में हो जाएगा। अगर जिंदगी ही नहीं रहेगी तो क्रिकेट का क्या करोगे। हमें एक चीज सोचनी है कि जिंदगी होनी चाहिए, बाकी सब वापस आ जाएगा।

-आपको क्या लगता है ओलंपिक स्थगित हो गया है। आइपीएल को भी स्थगित किया जाना चाहिए?
सकारात्मक सोचना चाहिए। अगर आइपीएल स्थगित हो जाता है तो होने दीजिए। अगर आप बीमार हो जाते हैं तो डॉक्टर बोलता है ना आपको आराम की जरूरत है, सोच लो कि दुनिया बीमार है और भगवान ने आराम करने का समय दिया है, आराम करिए। अगर आपकी सोच सही है तो सब सही है। आप लंबा सोचिए, कैसे इस समय अपनी सोसाइटी के लिए बेहतर कर सकते हैं। हमें एक दूसरे की मदद करने की जरूरत है।

Tirupati Eye

  • यूपी बॉर्डर पर फंसे करीब 5000 मजदूर, गर्भवती महिलाएं और बच्चे भूख से बेहाल कोरोना वायरस के कारण देश में लॉकडाउन लागू है. लॉकडाउन से सबसे ज्यादा परेशनी गरीब और मजदूर वर्ग के लोगों को उठानी पड़ रही


  • ट्रंप की नई इमिग्रेशन नीति को लेकर भारत सतर्क, नीति के ऐलान का किया जा रहा है इंतजार जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगर अपने वादे के मुताबिक नौकरी की तलाश में अमेरिका आने व


  • नहाय-खाय से शुरू हुआ आस्था का महापर्व चैती छठ, जानें मुहूर्त, पूजा विधि एवं महत्व हिंदी पंचांग अनुसार, चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की षष्ठी को चैती छठ मनाई जाती है। इस साल 28 मार्च से 31मार्च के बीच च


  • आतंकवाद को खत्‍म करने के लिए पीएम मोदी बहुत सशक्‍त: ट्रंप अगले 50 से 100 वर्षों में प्रमुख खिलाड़ी बनने जा रहा है भारत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा कि भारत अगले 50 से 100 वर्षों में प्रम


  • इस शिवरात्रि इन 5 राशि वालों पर बरसेगी महादेव की कृपा, बनेंगे सब काम ऐसा माना जाता है कि महाशिवरात्रि के दिन महादेव की पूजा और अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और जीवन में सुख-समृद्ध

संता और बंता दोनों भाई एक

संता और बंता दोनों भाई एक
ही क्लास में पढ़ते थे।

अध्यापिका: तुम